34 साल पुराने राडे रेज मामले में पटियाला हाई कोर्ट ने एक साल की सजा सुनाई है। 

नवजोत पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष है और उन्होंने आज पटियाला हाई कोर्ट में सरेंडर कर दिया। 

सूत्रों के अनुसार नवजोत सिंह सिद्धू अपनी सेहत खराब होने का और समय मांगने की याचिका दायर करेंगे।   

नवजोत सिंह सिद्धू से ये दुर्घटना अनजाने में हुई थी जिसमे वो 1000 रूपये जुरमाना देकर छूटे थे।  

27 सितम्बर 1988 को पटियाला में ये वाकया हुआ था जसिमे सिद्धू ने पार्किंग को लेकर विवाद किया और जिसमे वो चोट मार्कर फरार हो गए। 

साल 2006 में सिद्धू को हाई कोर्ट ने गैर इरादन हत्या के 3-3 साल की सजा सुनाई थी।  

जब ये हादसा हुआ उस समय नवजोत सिंह सिद्धू की उम्र केवल 25 साल थी।

साल 2010 में मृतक की परिवार वालो ने सिद्धू के द्वारा गुरुनाम को मारने की बात स्वीकारने वाली सीडी सुप्रीम कोर्ट में दिखिल की।    

इस मामले से एक साल पहले ही सिद्धू ने अपना टेस्ट डेब्यू किया था ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ।