2008 में हुए मुंबई  के ताज पैलेस होटल के हमले में वो शहीद हुए थे।

अदवी शेष  ने ये कहानी शहीद मेजर के जिंदगी के ऊपर फिल्मायी है। 

अमेरिका में पहली बार जब अदवी ने संदीप को देखा तो उनका चेहरा काफी उनसे मिलता था 

इस कहानी में संदीप के जीवन के उन पहलुओं को शामिल करने की कोशिश उनकी रही जिन्होंने उन्हें एक जांबाज और देश प्रेमी फौजी अफसर के रूप में तैयार किया।

अदिवि शेष के अलावा फिल्म ‘मेजर’ के बाकी कलाकारों में प्रकाश राज और रेवती ने कमाल का अभिनय किया है।

मेजर संदीप उन्नीकृष्णन के माता पिता के साथ अदिवि शेष ने बहुत समय बिताया है और इन दोनों चरित्रों की बारीकियों में ये मेहनत काम भी आई है।

‘मेजर’ मुंबई आतंकी हमले की एक ऐसी कहानी को देखने का नया नजरिया देती है जिसके बारे में उन्हें ज्यादा पता नहीं है।

फिल्म बनी अच्छी है, इसे देखना शुरू करेंगे तो ये अच्छी लगने भी लगती है,

कोई डेढ़ दशक तक ये कहानी उनके सीने में छुपी रही और अब जाकर फिल्म ‘मेजर’ के रूप में ये परदे तक पहुंची है।